• Sun. Jul 3rd, 2022

बजट में जाने क्या हुआ सस्ता, क्या हुआ मंहगा, पीएम मोदी ने क्या कहा

देश में साल भर में कहां, कितना खर्च किया जाएगा, इसके लिए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने आज संसद में बजट पेश किया। जैसा कि आप अपने घर को चलाने के लिए अपना मंथली बजट तय करते हैं। इस दौरान घर के हर सदस्य की जरूरतों का ख्याल रखते हैं। किचन को ज्यादा अहमियत देनी है या बच्चों की पढ़ाई को या फिर हेल्थ पर ठीक वैसे ही बजट का हाल होता है। इसमें आपके लिए क्या सस्ता रहा और क्या महंगा हो गया, ये हम आपको बता रहे हैं।

पॉलिश डायमंड के साथ रत्नों पर घटी इंपोर्ट ड्यूटी

बजट 2022 में वित्तमंत्री ने ज्वैलरी इंडस्ट्री को भी बढ़ावा देने के लिए कट, पॉलिश डायमंड और रत्नों पर कस्टम ड्यूटी घटाने का ऐलान किया है। अब इन पर 5% का टैक्स लगाना है। सिंपली सोन्ड डायमंड पर अब कोई कस्टम ड्यूटी नहीं लगेगी। इसके साथ ही चमड़े का सामान, कपड़ा, विदेश से आने वाली मशीनें, जूते-चप्पल, मोबाइल फोन और चार्जर अब सस्ता होगा।
बजट 2022 में वित्तमंत्री ने ज्वैलरी इंडस्ट्री को भी बढ़ावा देने के लिए कट, पॉलिश डायमंड और रत्नों पर कस्टम ड्यूटी घटाने का ऐलान किया है। अब इन पर 5% का टैक्स लगाना है। सिंपली सोन्ड डायमंड पर अब कोई कस्टम ड्यूटी नहीं लगेगी। इसके साथ ही चमड़े का सामान, कपड़ा, विदेश से आने वाली मशीनें, जूते-चप्पल, मोबाइल फोन और चार्जर अब सस्ता होगा।
सरकार ने आर्टिफिशियल गहनों पर इंपोर्ट ड्यूटी 400 रुपये प्रति किलोग्राम करने की घोषणा की है। ऐसे में अब ये गहने महंगे हो जाएंगे। विदेशी छातों पर सरकार अब 20% का टैक्स वसूलेगी, जिसकी वजह ये महंगे हो जाएंगे।
ये चीजें हुई थीं महंगी: मोबाइल, बैटरी, एसी, फ्रिज, गाड़ियां, गहने और नग, चमड़े का सामान, LED लाइट‌, सोलर इन्वर्टर, धागे, केबल

ये सस्ता: गोल्ड-सिल्वर और प्लेटिनम की ज्वैलरी, स्टील के बर्तन, सोने-चांदी के सिक्के, तांबे के सामान, पशु आहार

इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ने से क्या होता है?

सरकार दूसरे देशों से आने वाले सामान पर जो टैक्स वसूलती है, उसे ही इंपोर्ट ड्यूटी टैक्स कहा जाता है। इंपोर्ट ड्यूटी सरकार की अच्छी-खासी कमाई का जरिया होता है। तो विदेश से आनेवाले किसी भी सामान पर इंपोर्ट ड्यूटी के बढ़ते ही वो चीज आपके लिए मंहगी हो जाती है। जैसे कि पिछली बार सरकार ने विदेश से आने वाले मोबाइल और उससे जुड़े उपकरणों पर इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ाई थी। सरकार पिछले 5 साल में इन प्रोडक्ट्स पर करीब 10% तक इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ा चुकी है। इसके दो असर हुए हैं। विदेश से आने वाले फोन की कीमत बढ़ गई है। देश में बनने वाले मोबाइल फोन की संख्या बढ़ गई है, लेकिन ये चीजें महंगी हुई हैं।
पीएम मोदी ने कहा कि ये बजट, अर्थव्यवस्था को मजबूती देने के साथ ही अनेक नए अवसर बनाएगा| इस बजट का एक महत्वपूर्ण पहलू है- गरीब का कल्याण| ये बजट 100 साल की भयंकर आपदा के बीच, विकास का नया विश्वास लेकर आया है|

‘सेवा का हमारा उत्साह अनेक गुना बढ़ा’

ये बजट अधिक बुनियादी ढांचा, अधिक निवेश, अधिक विकास और अधिक नौकरियों की नई संभावनाओं से भरा हुआ है. इससे Green Jobs का भी क्षेत्र और खुलेगा| पिछले कुछ घंटों से देख रहा हूं, जिस प्रकार से इस बजट का हर क्षेत्र में स्वागत हुआ है, सामान्य मानवी की जो समारात्मक प्रतिक्रिया आई है, उसने जनता-जनार्दन की सेवा का हमारा उत्साह अनेक गुना बढ़ा दिया है|

हर गरीब के पास पक्का घर
उन्होंने कहा कि हर गरीब के पास पक्का घर हो, नल से जल आता हो, उसके पास शौचालय हो, गैस की सुविधा हो, इन सभी पर विशेष ध्यान दिया गया है. इसके साथ ही आधुनिक इंटरनेट कनेक्टिविटी पर भी उतना ही जोर है. हिमाचल, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर, नॉर्थ ईस्ट, ऐसे क्षेत्रों के लिए पहली बार देश में पर्वतमाला योजना शुरू की जा रही है|

पहाड़ों पर ट्रांसपोर्टेशन की आधुनिक व्यवस्था का निर्माण
ये योजना पहाड़ों पर ट्रांसपोर्टेशन की आधुनिक व्यवस्था का निर्माण करेगी. इस बजट में क्रेडिट गारंटी में रिकॉर्ड वृद्धि के साथ ही कई अन्य योजनाओं का ऐलान किया गया है| डिफेंस के कैपिटल बजट का 68 % डोमेस्टिक इंडस्ट्री को रिजर्व करने का भी बड़ा लाभ, भारत के MSME सेक्टर को मिलेगा. यह हमारी सीमाओं पर बसे गांवों को और जीवंत बनाएगा|

गंगा किनारे नैचुरल फॉर्मिंग को प्रोत्साहन
पीएम ने कहा कि भारत के कोटि-कोटि जनों की आस्था, मां गंगा की सफाई के साथ-साथ किसानों के कल्याण के लिए एक महत्वपूर्ण कदम उठाया गया है| उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, इन पांच राज्यों में गंगा किनारे, नैचुरल फॉर्मिंग को प्रोत्साहन दिया जाएगा| मैं वित्त मंत्री निर्मला जी और उनकी पूरी टीम को लोगों के अनुकूल और प्रगतिशील बजट के लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूं|