सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर थानों में लगे सीसीटीवी के साथ छेड़छाड़ कर रही बिहार पुलिस

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर लगे हैं सीसीटीवी, पर भागलपुर के पुलिसकर्मी थानों में लगे कैमरों से छेड़छाड़ कर रहे हैं। इससे नाराज पुलिस मुख्यालय ने कहा है कि छेड़छाड़ करने वाले पुलिस पदाधिकारी और पुलिसकर्मी नपेंगे। विभिन्न जिलों से थानों में लगे सीसीटीवी से छेड़छाड़ की शिकायत के बाद पुलिस मुख्यालय ने भागलपुर सहित सभी जिलों के एसपी को पत्र लिखा है।
एडीजी, एससीआरबी एवं आधुनिकीकरण ने जिलों के एसपी को लिखे पत्र में कहा है कि कोई भी पुलिसकर्मी अगर ऐसा करते हुए देखे गये तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने लिखा है कि कई बार निर्देश दिये जाने के बाद पुलिसकर्मी थानों में लगे कैमरों से छेड़छाड़ कर रहे हैं।

पुलिस मुख्यालय के पदाधिकारी ने अपने पत्र में साफ लिख दिया है कि थानों में लगे सीसीटीवी को कार्यरत रखने, उसके रखरखाव और रिकॉर्डिंग रखने की जिम्मेदारी संबंधित थानाध्यक्षों की होगी। थानों में अगर सीसीटीवी काम नहीं कर रहा होगा तो उसकी जिम्मेदारी भी थानाध्यक्षों की होगी और खराब होने पर कोई भी पुलिसकर्मी खुद उसे ठीक करने की कोशिश नहीं करेगा यह भी कहा गया है। जिलों के एसपी को लिखा गया है कि सीसीटीवी से छेड़छाड़ करने वालों को चिह्नित कर खुद कार्रवाई करें और इसकी जानकारी पुलिस मुख्यालय को भी दें।
सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर ही सभी थानों में सीसीटीवी लगाये गये हैं। पुलिस की कार्रवाई में पारदर्शिता रहे और यह पता चल सके कि थाना स्तर पर क्या हो रहा है इसके लिए सीसीटीवी लगाये गये हैं। सुप्रीम कोर्ट ने ही यह भी निर्देश दिया है कि कोई मामला अगर मानवाधिकार से संबंधित हो तो थानों में लगे सीसीटीवी का एक साल के अंदर तक फुटेज मांग करने पर पीड़ित पक्ष को उपलब्ध कराया जाये।

पुलिस मुख्यालय को इस बात की आशंका है कि सीसीटीवी से छेड़छाड़ के पीछे मंशा ठीक नहीं है। थाना स्तर पर होने वाली कार्रवाई और अन्य बातों को छिपाने के लिए सीसीटीवी से छेड़छाड़ की जा रही है। शहर की बात की जाये तो कई थाने ऐसे भी हैं जिनके पास अपना भवन नहीं है जिस वजह से सीसीटीवी नहीं लगाया जा सका है। तिलकामांझी और जोगसर थाने में इसी वजह से सीसीटीवी नहीं लगाया जा सका है।
शहर में बाकी थानों जीरोमाइल, बरारी, इशाकचक, मोजाहिदपुर, तातारपुर, कोतवाली थानों में सीसीटीवी लगाया जा चुका है। इसकी मॉनिटरिंग पुलिस मुख्यालय से की जा रही है। भागलपुर रेंज डीआईजी सुजीत कुमार ने बताया कि थानों में लगे सीसीटीवी को क्रियाशील बनाये रखना है। उसमें अगर कोई तकनीकी खराबी आती है तो टेक्निशियन से ही उसे ठीक कराना है। उन्होंने कहा कि पुलिस मुख्यालय से आये निर्देश के आलोक में तीनों जिलों को लिखा जायेगा।

Previous post छापेमारी में सोने की बिस्कुट ही नहीं सोने का कलम भी मिला सासाराम के नगर आयुक्त सह भू-अर्जन पदाधिकारी के 3 ठिकानों पे
Next post पहले ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार के ससुराल में २५ लाख की चोरी, फिर सरकारी गाड़ी के प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र की वैधता समाप्त होने से किरकिरी